कहां गई लाश?

0
22815

विकासनगर की फिजाओं में तैर रहा सवाल
विकासनगर। इलाके में दो युवकों ने एक युवक का अपहरण कर उस पर ईंट से हमला कर मौत के घाट उतारने के बाद थाने में जाकर आत्मसमर्पण कर दिया था। हत्यारों ने खुलासा किया कि उन्होंने लाश को शक्तिनहर में फेंक दिया था जिसके बाद एसडीआरएफ व पुलिस की टीमें लाश को खोजने के लिए शक्तिनहर में सर्च ऑपरेशन करने लगी लेकिन लाश का कुछ पता नहीं चल पा रहा जिसको लेकर विकासनगर की फिजाओं में सवाल तैर रहा है कि आखिरकार लाश कहां गई? नहर में लाश न मिलने से विकासनगर के लोगों में पुलिस को लेकर बडी नाराजगी देखने को मिली और इसी के चलते सैकडों लोगों ने आक्रोशित होकर विकासनगर बाजार बंद करा दिया और पुलिस को अल्टीमेटम दिया कि जब तक मृतक की लाश नहीं मिल जाती तब तक उनका आन्दोलन जारी रहेगा जिससे पुलिस व खुफिया एजेंसियों मंे हलचल मची हुई थी।
उल्लेखनीय है कि 16 जनवरी की शाम विकासनगर निवासी मोती सिंह कार से बाजार के लिए निकला था लेकिन चंद बदमाशों ने कार सहित मोती सिंह का अपहरण कर लिया था। बताया जा रहा है कि इसी बीच नशा करने वाले गांव का एक युवक और नवाबगढ निवासी नदीम व एहसान उसे मिले और उसके बाद उन्होंने किसी विवाद को लेकर मोती सिंह के सिर पर ईंटों से हमलाकर उसे मौत की नींद सुला दिया। चर्चा यहां तक है कि मोती सिंह की हत्या करने के बाद दोनो हत्यारे विकासनगर थाने पहुंचे और उन्होंने कबूला कि वह मोती सिंह की हत्या करके आये हैं और उसकी लाश को उन्होंने शक्तिनहर में फेंक दिया है। मोती सिंह की हत्या की खबर से विकासनगर पुलिस के हाथ-पांव फूल गये और दोनो हत्यारों की निशानदेही पर शक्तिनहर में मृतक को खोजने का ऑपरेशन शुरू किया गया लेकिन नहर में उसकी लाश का कुछ पता नहीं चल पाया। बीते रोज एसडीआरएफ व पुलिस की टीमों ने शक्तिनहर में मृतक को खोजने के लिए सर्च ऑपरेशन चलाया लेकिन घंटों की मशक्कत के बाद भी लाश का कुछ पता नहीं चल पाया। मोती सिंह की लाश का पता न चलने पर विकासनगर के लोगों में काफी उबाल देखने को मिल रहा है और उनमें इस बात को लेकर नाराजगी है कि आखिरकार मोती सिंह की लाश कहां चली गई? मृतक का कुछ पता न चलने पर विकासनगर के लोगांे ने बाजार भी बंद कराया जिससे पुलिस के माथे पर बल देखने को मिले और यही सवाल तैरने लगा कि जब हत्यारे खुलासा कर रहे हैं कि उन्होंने लाश शक्तिनहर में फेंक दी थी तो फिर सर्च ऑपरेशन में लाश क्यों नहीं मिल रही?
वहीं विकासनगर पुलिस व खुफिया एजेंसियां भी इलाके में डेरा डाले हुए थी और वह यही पता लगाने में जुटी हुई थी कि आखिरकार मृतक की लाश नदी से कैसे गायब हो गई? हत्यारों का दावा है कि उन्होंने मोती सिंह की हत्या कर उसकी लाश को नदी में फेंक दिया था लेकिन सवाल उठ रहा है कि आखिरकार नशेबाज हत्यारों व मोती सिंह के बीच ऐसा क्या हो गया था जिसके चलते इस हत्याकांड को अंजाम देकर विकासनगर की फिजाओं में जहर घोल दिया गया?

LEAVE A REPLY