हैवान ससुर ने पुत्रवधू को दी थी मौत

0
8

किच्छा । एसएसपी बरिंदरजीत सिंह ने किच्छा में हुये दोहरे हत्याकाण्ड़ से पर्दा उठा दिया और हत्याकाण्ड़ को अंजाम देने वाले को सलाखों के पीछे डालने का काम किया। आज किच्छा कोतवाली में एसएसपी बरिंदरजीत सिंह ने वारदात का खुलासा करते हुये बताया किया कि दिनांक 27 दिसंबर को किच्छा में स्थित वार्ड न16 में सास और बहु की हत्या के पीछे कोई ओर नहीं बल्कि पुत्रवधू का ससुर अवतार सिंह है जोकि वारदात के बाद से ही गायब था। जिसको खोज निकालने के लिये पुलिस ने अपनी पूरी ताकत लगा रखी थी। जिस पर पुलिस के हाथ एक बड़ी सफलता लगी और फरार चल रहा अवतार सिंह पुलिस के शिंकजे में आ गया। एसएसपी सिंह ने खुलासा करते हुये बताया कि अवतार सिंह ने वारदात करने की बात को कबूलते हुये उसकी निशान देही से हत्या में प्रयोग किया गया तार भी बरामद हुआ है। एसएसपी ने बताया कि अवतार सिंह पहले से ही अपने भतीजे मनजीत कि पत्नी मनदीप कौर पर पहले से ही गलत नजर रखता था, वो उक्त तारिख को शराब पीकर घर आया तो मनदीप घर में अकेली थी, उसने मनदीप से शारीरिक संबंध बनाने का प्रयास किया तथा उसको पकड़ लिया लेकिन उनसे विरोध किया, तो उसने जबरदस्ती संबंध बनाये और उसके बाद पास में पड़ी प्रेस की रस्सी से मनदीप का गला दबाकर उसकी हत्या कर दी। कुछ समय बाद उसकी अवतार सिंह की पत्नी चरनजीत कौर आई तो उसको भी प्रेस की रस्सी से गला दबाकर हत्या कर मौके से फरार हो गया। पुलिस ने बताया कि अवतार सिंह मौके से भागने के बाद भरतपुर के बाद जयपुर रोड़वेज बस स्टैड पर रहा, पैसे खत्म होने पर वो वापस रूद्रपुर आया था। पुलिस ने अवतार सिंह की निशान देही से मृतक चरनजीत कौर के एक जोड़ी कुण्डल व मृतका मनदीप का एक मंगल सूत्र बरामद किया। ज्ञात हो कि गत 27 दिसंबर की रात्रि नगर के वार्ड 16 टीचर कॉलोनी निवासी अवतार सिंह के घर में उसकी पत्नी चरणजीत कौर उर्फ पार्वती देवी तथा पुत्र वधू मनदीप कौर पत्नी मनजीत सिंह का शव पड़े होने की सूचना से क्षेत्र में हडकंप मच गया था। पुलिस वारदात से पर्दा उठाने में लग गई थी। चरनजीत कौर का पुत्र मनजीत सिंह घटना के दिन वैष्णो देवी दरबार में दर्शनों के लिए गया हुआ था जबकि घर पर तीनों लोग मौजूद थे । इस दौरान पूछताछ में यह बात सामने आई थी कि दोनों महिलाओं की हत्या करने के बाद आरोपी अवतार सिंह घर पर ताला लगा कर तथा पड़ोसियों को घर की चाबी देकर मौके से फरार हो गया । घर से भागते हुए अवतार सिंह घर में रखे जेवर भी ले गया था।

कोतवाल मोहन पांडे के हाथ एक ओर कामयाबी
किच्छा कोतवाली के तेज तर्रार कोतवाल मोहन चंद पांडे के हाथ आज एक ओर सफलता लगी और चंद दिनों के भीतर ही उन्होंने अपनी टीम के साथ मिल दोहरे हत्याकाण्ड़ को अंजाम देने वाले अवतार सिंह को खोज निकालने में सफलता हासिल की और उसको सलाखों के पीछे भेजने का काम किया। एसएसपी ने इस हत्याकाण्ड़ से पर्दा उठाने की कमान किच्छा कोतवाल मोहन चंद पांडे को सौपी थी और उन्होंने एक बार फिर अपना लोहा मनवाते हुये ये साफ कर दिया कि वो किसी से कम नहीं है। कोतवाली परिसर में घटना का खुलासा करते हुए एसएसपी बरिंदर जीत सिंह ने बताया कि सूचना के आधार पर कार्यवाही करते हुए कोतवाल मोहन चंद पांडे के नेतृत्व में एसआई सतपाल सिंह, एसआई नवीन बुधानी, एसओजी प्रभारी उमेश मलिक, कांस्टेबल प्रकाश भगत ,कांस्टेबल इरशाद उल्लाह, कांस्टेबल कुलदीप आर्य ,कांस्टेबल माधव सिंह, कांस्टेबल सुरेश बिष्ट, कांस्टेबल संजय धौनी, कांस्टेबल तारा गौरंगा की टीम ने आरोपी अवतार सिंह को रुद्रपुर से उस समय दबोच लिया, जब वह कहीं भागने की फिराक में था। खुलासा करने वाली पुलिस टीम को एसएसपी ने 2500 रुपया प्रोत्साहन राशि देने की घोषणा की है।

LEAVE A REPLY