चर्चित बिल्डर को खनन में दबंग का लगा ‘चस्का’

0
112

सरकार से टकराने की कोशिश कर रहा दागी!
बाहुबली बन खनन विभाग को दे रहा चुनौती
देहरादून। उत्तराखण्ड सरकार ने खनन की नीलामी ई-ट्रेंडिंग से करने के लिए अपने कदम आगे बढाये तो बाहुबली बनने वाले कुछ बिल्डरों को खनन के धंधे में दबंग बनने का चस्का लग गया और ऐसा ही कुछ राजधानी के एक चर्चित बिल्डर का किस्सा भी अब सरकार से लेकर शासन के गलियारांे में चर्चा का विषय बना हुआ है? चर्चित व दागी बिल्डर ने ई-ट्रेंडिंग में अपना बाहुबलीपन दिखाते हुए खनन के एक बडे लॉट में सिंग्गल बिट के सहारे ठेका लेने के लिए अपने कदम आगे बढाये लेकिन सरकार ने सिंग्गल बिट को खारिज कर दिया जिससे दागी व चर्चित बिल्डर पर्दे के पीछे रहकर सरकार से टकराने की कोशिश कर रहा है और चर्चा है कि वह खनन विभाग को अपना बाहुबल दिखाते हुए उन्हें डराने की हर कोशिश में जुटा हुआ है? ऐसे में सवाल उठते हैं कि क्या खनन विभाग के कुछ अफसर डरकर इस चर्चित बिल्डर को निरस्त हुए टेंडर को पाने के लिए न्यायालय जाने का रास्ता तो नहीं दिखा रहे? जिससे सरकार का दामन भी बचा रहे और चर्चित बिल्डर को करोडो का ठेका मिल जाये?
उल्लेखनीय है कि उत्तराखण्ड में डबल इंजन की सरकार ने खनन की नीलामी ई-ट्रेंडिंग से करने के लिए कैबिनेट में प्रस्ताव पारित किया था जिससे इस बात की शंका भी उठी थी कि खनन के बडे-बडे लॉट कुछ बाहुबली एक रणनीति के तहत लेने में सफल हो सकते हैं। चर्चा है कि राजधानी के एक चर्चित व दागी बिल्डर ने सरकार में खनन की नीलामी के लिए ई-ट्रेंडिंग से अपना टेंडर भरा और हैरानी वाली बात यह रही कि इस बडे लॉट में चर्चित बिल्डर के अलावा किसी दूसरे बिल्डर ने अपनी बिट नहीं डाली और एक मात्र चर्चित बिल्डर की खनन के बडे लॉट में बिट आने से सरकार को भी इसमें शंका नजर आई और चर्चा है कि सरकार ने सिग्गल बिट को खारिज कर दिया? चर्चित बिल्डर की सिंग्गल बिट खारिज हुई तो उसने अपनी दबंगता खनन विभाग पर दिखाने के लिए अपने कदम आगे बढा दिये। चर्चा है कि चर्चित बिल्डर खनन विभाग के कुछ अफसरों पर बडा राजनीतिक दबाव बनाने में लगा हुआ है कि किसी तरह से उसे खनन का यह लॉट सरकार जारी कर दे? चर्चा है कि सरकार के सामने भी यह बडी चुनौती है कि बडे-बडे लॉट हासिल करने के लिए कुछ दबंग व बाहुबली छोटे खनन कारोबारियों को नीलामी में ई-ट्रेंडिंग करने से दूर रखेंगे और उसके बाद अपनी सिंग्गल बिट के सहारे वह खनन का बडा लॉट हासिल करने में सफल हो जायेंगे? सरकार से लेकर शासन तक यह शोर मचा हुआ है कि दागी बिल्डर खनन का लॉट हासिल करने के लिए एडी-चोटी का जोर लगाये हुए है और उसकी इस दबंगता से खनन विभाग के अफसरों के माथे पर भी पसीनें आ रखे हैं और उनका मानना है कि अगर ऐसे बिल्डर के दबाव में अगर शासन आ गया तो फिर खनन के धंधे में आने वाले समय में एक बडा सिंडिकेट खडा हो जायेगा? यह सिंडिकेट अपनी दबंगता के चलते छोटे-छोटे लॉटों को तो छोटे कारोबारियों के पास जाने देगा लेकिन बडे लॉटों में छोटे कारोबारियो को वे किसी भी कीमत पर नीलामी में ई-ट्रेंडिंग नहीं करने देंगे ऐसे में अब सरकार व शासन को भी मंथन करना चाहिए कि कहीं यह चर्चित बिल्डर न्यायालय में जाकर सरकार के आदेश को चुनौती न दे दे?

LEAVE A REPLY