प्रतिदिन घटित घटनाओं के खिलाफ निकाला विरोध मार्च

0
29

देहरादून। उन्नाव, कठुआ और रूद्रप्रयाग जिले में हर रोज घटित घटनाओं के विरोध में उत्तराखंड महिला मंच के कार्यकर्ताओं ने राजधानी में विरोध मार्च निकालकर दोषियों को फांसी की सजा दिये जाने की मांग की है और कहा कि इस तरह के कृत्यों को कहीं भी पनपने नहीं दिया जायेगा।
यहां उत्तराखंड महिला मंच की कार्यकर्तायें प्रदेश संयोजक कमला पंत के नेतृत्व में गांधी पार्क में इकटठा हुए और वहां पर उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया और विरोध मार्च निकाला। इस अवसर पर कमला पंत ने कहा है कि उन्नाव, कठुआ और रूद्रप्रयाग जिले में हर रोज घटित घटनाओं का व्यापक स्तर पर विरोध किया जायेगा। उनका कहना है कि दोषियों को फांसी की सजा दिये जाने की आवश्यकता है। उनका कहना है कि इस तरह के कृत्यों को कहीं भी पनपने नहीं दिया जायेगा, इसका लगातार विरोध किया जायेगा।
उनका कहना है कि उन्नाव में महिला से बलात्कार के मामले में भाजपा विधायक शामिल है लेकिन मुकदमा दर्ज होने के बाद गिरफ्तार तो कर दिया गया लेकिन यह कहा जा रहा है कि उनके खिलाफ पर्याप्त सबूत नहीं है जो भाजपा की कथनी एवं करनी को दर्शाता है। उनका कहना है कि इस तरह के घिनौने कार्य करने वालों को बक्शा नहीं जाना चाहिए और तत्काल फांसी दे देनी चाहिए। उनका कहना है कि एक ओर बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओं का संदेश दिया जा रहा है और दूसरी ओर बेटियों के साथ इस प्रकार के घिनौने कार्य किये जा रहे है और उनके दोषियों को लगातार सरकारें बचाने का कार्य कर रही है जिसे किसी भी दशा में सहन नहीं किया जायेगा।
उनका कहना है कि इसी प्रकार से कठुआ में भी नाबालिक के साथ जिस प्रकार से दरिदों ने घिनौना कार्य किया है उसकी जितनी निंदा की जाये वह कम है। उनका कहना है उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के शासनकाल में आज कानून व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो चुकी है और यही हाल उत्तराखंड प्रदेश सरकार का भी हो गया है, यहां हर रोज चोरी, डकैती, लूटपाट, चैन स्नैचिंग आदि हो रहे है लेकिन सरकार नियंत्रत कर पाने में पूरी तरह से नाकाम हो चुकी है।
उनका कहना है कि रूद्रप्रयाग जिले के अगस्त्यमुनि क्षेत्र में जिस प्रकार से समाज विशेष ने जिस प्रकार से कार्य किये गये और वहां पर लोगों की दुकानें फूंक दी और ऐसी ही स्थिति कश्मीर में भी हुई है और सरकारें किसी भी प्रकार का कोई ध्यान नहीं दे रही है और लोगों के जानमाल की सुरक्षा नहीं की जा रही है। इस अवसर पर मंच की जिला संयोजक निर्मला बिष्ट ने कहा कि एक ओर केन्द्र सरकार कह रही है कि लोकतंत्र खतरे में है और देश के प्रधानमंत्री स्वयं उपवास पर बैठ रहे है और यदि लोकतंत्र को खतरा है तो केन्द्र सरकार को तुरंत इस्तीफा दे देना चाहिए। उनका कहना है कि आज तक मुजफ्फरनगर कांड के प्रमुख दोषियों को सजा तक नहीं दे पाई है जो चिंता का विषय है। इस अवसर पर सभा के बाद मंच की कार्यकर्ताओं ने गांधी पार्क से घंटाघर तक विरोध मार्च निकाला। इस अवसर पर पीपुल्स फोरम के जयकृत कंडवाल व नौजवान सभा ने भी अपना सहयोग दिया। इस अवसर पर मंच की प्रदेश संयोजक कमला पंत, जिला संयोजक निर्मला बिष्ट, प्रवक्ता शकुन्तला गुसांई, शांति नेगी, पदमा गुप्ता, हेमलता नेगी, चमेली सेमवाल, शांता नेगी, कमलेश्वरी बडोला, बंसती चौहान, मातेश्वरी रजवार, कमलेश्वरी देवी, माया जोशी, कुंवारा देवी आदि अनेक कार्यकर्ता मौजूद थे।

LEAVE A REPLY