वाहन चोर गैंग का मास्टर मांइड गिरफ्तार

0
14

पुलिस ने अभियुक्त के कब्जे से चोरी की इनोवा व स्विफ्ट डिजायर का इंजन किया बरामद
ऋषिकेश। पुलिस ने अन्तर्राज्यीय वाहन चोरों के गैंग के फरार आरोपी को दबोचकर मामले का पूरी तरह से पटाक्षेप कर दिया है। मामले के खुलासे मे लगी टीम ने मुखबिर की सूचना पर पुलिस की आखों मे धूल झोंकर फरार हुए आरोपित विक्रांत मलिक उर्फ सन्नी पुत्र मेहर सिंह थाना कोतवाली शामली हाल निवासी पानीपत हरियाणा को मुज्जफरनगर चौक से दबोच लिया। अभियुक्त मौके पर एक चोरी हुई गाड़ी को बेचने आ रहा था पर उसे दबोचने के लिए पुलिस द्वारा बुने गये जाल मे वह फंस गया।
गौरतलब है कि देहरादून जनपद मे पिछले कुछ अर्से से ताबड़तोड़ वाहन चोरी की वारदातों ने पुलिस प्रशासन को बैचेन करके रखा हुआ था। वाहन चोरों ने पुलिस को चुनौती देते हुए ऋषिकेश से एक, सहसपुर से एक व हरिद्वार से तीन वाहनों को चोरी कर लिया था। मामले के खुलासे के लिए जनपद की पुलिस कप्तान ने अपने अधिनस्थों को वाहन चोरों को दबोचकर उन्हें उनके सही ठिकाने जेल पहुचानें के सख्त निर्देश दिए थे। पुलिस मामले के खुलासे के लिए वाहन चोरी के स्थानों की  सी सी टी वी की फुटेज भी खंगालने मे जुटी हुई थी जिसमें कुछ सुराग पुलिस के साथ लगे थे।इसके बाद बेहद हाईटेक तरीके से पुलिस ने जाँल बिछाना शुरू कर दिया जिनसे पुलिस को उस वक्त एक अहम सफलता प्राप्त हुई जब विगत  14, मार्च को ऋषिकेश मे मुख्बिर की सूचना पर अन्तर्राज्यीय वाहन चोर गैंग के दो शातिर चोरो को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से  दो वाहन बरामद कर उन्हे जेल भेजा दिया  गया। हालाकि पुलिस को चकमा देकर मौके से उनका एक साथी फरार हो गया था, जिसकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस लगातार उसके ठिकानों पर दबिश दे रही थी। इस मामले मे मंगलवार को हरिद्वार क्षेत्र में रवाना थी। पुलिस टीम को मुखबिर ने सूचना दी कि विक्रान्त मलिक उर्फ सन्नी नि0 पानीपत जोकि शातिर वाहन चोर गैंग का अहम सदस्य है । आज पानीपत से शामली की तरफ इनोवा बेचने आने वाला है।  सूचना पर पुलिस टीम मुखबिर को साथ लेकर राणा चौक, मुजफ्फरनगर से दो-तीन किमी0 आगे नदी पर बने एक पुल पर पंहुच गयी। थोड़ी ही देर में एक सिल्वर रंग की इनोवा कार आती दिखाई दी, जिसे पुलिस की टीम  द्वारा  बमुश्किल रोका गया। कार चालक ने अपना नाम विक्रान्त मलिक उर्फ सन्नी पुत्र मेहर सिंह नि0 ग्राम लांख, थाना कोतवाली शामली, जिला शामली उत्तरप्रदेश हाल किरायेदार आर0एस0 इलाहाबादी, म0नं0 1684, सैक्टर 11, थाना चांदनी बाग, पानीपत हरियाणा बताया। इनोवा में नम्बर प्लेट नही लगी होने व कागजात मांगने पर वह इधर उधर की बाते करने लगा। इनोवा की पिछली डिग्गी में एक इंजन रखा हुआ था। विक्रान्त से सख्ती से पूछताछ करने पर उसने बताया कि यह इनोवा मैने व मेरे साथी अक्षय ने 15 फरवरी की  प्रातः ऋषिकेश से चोरी की थी। चोरी करते समय गलती से उसका गलत तार कट गया था, जिस कारण हम अपनी आई 20 कार से इनोवा को टू-चेन कर पानीपत ले गये थे। आज वह  इनोवा व इंजन को बेचने के लिये मुजफ्फरनगर व मेरठ जा रहा था। पूछताछ में विक्रान्त ने यह भी बताया कि 22 फरवरी की रात्रि हम तीनो ने हरिद्वार से एक स्विफ्ट व दो डिजायर कार चोरी की थी, जिसको हमने खोलकर पुर्जे बाजार में बेच दिये थे।

अभियुक्त की  का आपराधिक इतिहास
वाहन चोर विक्रांत मलिक की कुंडली खंगालने पर पुलिस को जानकारी  मिली की  उसके विरूद्ध वाहन चोरी के पानीपत सिटी में 04 अभियोग, थाना चांदनी बाग में 10 व थाना मॉडल टाउन पानीपत में 03 अभियोग पंजीकृत हैं। शेष आपराधिक इतिहास की जानकारी के लिए भी पुलिस जुटी हुई है।

LEAVE A REPLY