शिवालायों में गंूजी हर हर महादेव की गूंज

0
41

देहरादून। राजधानी में महाशिवरात्रि पर्व बडे ही धूमधाम के साथ मनाया गया और वहीं भक्तों ने मंदिरों में पूजा अर्चना की और व्रत रखे। मध्य रात्रि से ही द्रोणनगरी के मंदिर और शिवालय भोले बाबा के जयकारों से गूंज उठे। हर-हर महादेव और ऊं नमः शिवाय का जयकारा लगाते श्रद्धालु मंदिर पहुंचे और वहीं टपकेश्वर महादेव मंदिर सहित राजधानी के अनेकों मंदिरों में श्रद्धालुओं की भीड़ रही और उन्होंने पूजा अर्चना कर पुण्य कमाया।
यहां टपकेश्वर महादेव मंदिर में मध्य रात्रि से ही श्रद्धालुओं की भीड़ जुटनी शुरू हो गई और पहले भगवान शिव शंकर का दर्शन किया। इसके बाद इसके बाद बेर, धतूरा, बेल-पत्र, गंगा जल और दूध आदि से भोले बाबा का विधिवत अभिषेक कर पूजा-अर्चना की।
इस अवसर पर महाशिवरात्रि पर बाबा की पूजा-अर्चना और अभिषेक के लिए रात से ही मंदिरों में श्रद्धालुओं की लाइन लगनी शुरू हो गई थी। ठीक 12 बजे पट खुलते ही लोगों ने शिवलिंग का अभिषेक किया। हालांकि, चतुर्दशी तिथि दो दिन होने के चलते कुछ जगहों पर 14 फरवरी यानी बुधवार को भी महाशिवरात्रि पर्व मनाया जाएगा। वहीं, ज्योतिषियों के अनुसार 13 फरवरी को व्रत करना ही शास्त्र सम्मत है। यही वजह है कि रात 12 बजे से ही यहां श्रद्धालुओं ने पूजा-अभिषेक शुरू कर दिया। मंदिर प्रबंधन की ओर से रात को भगवान शिव की प्रिय वस्तुओं भांग, धतूरा, गन्ने के रस, पंचमेवा आदि से बाबा का विशेष अभिषेक किया गया। साथ ही 500 लीटर दूध से भी बाबा का अभिषेेक किया गया। मंदिर के महंत किशन गिरी ने बताया कि सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए इस बार करीब 40 सीसीटीवी कैमरे मंदिर और आसपास परिसर में लगाए गए हैं। वहीं, मेले में नए झूले भी आए हैं।
टपकेश्वर महादेव मंदिर में महाशिवरात्रि का व्रत आज मनाया गया और पुलिस प्रशासन की ओर से सुरक्षा गार्ड भी मंदिर के भीतर और बाहर तैनात किए गए हैं। वहीं दूसरी ओर राजधानी के अनेक मंदिरों में सुबह से ही श्रद्धालुओं की भीड़ देखी गई और कुठालगेट से आगे शिव मंदिर में भी मध्य रात्रि से ही श्रद्धालुओं की भीड़ जुटनी शुरू हो गई और श्रद्धालुओं ने वहां पर पूजा अर्चना कर व्रत रखा। इसी प्रकारसहारनपुर चौक स्थित श्री पृथ्वीनाथ मंदिर में महंत 108 रविंद्रपुरी महाराज के सान्निध्य में शिव महोत्सव का शुभारंभ किया गया। इस दौरान 2100 दीयों की रंगोली ने सबका मन मोह लिया। इसमें भगवान शिव एवं गणपति के स्वरूप आकर्षित कर रहे थे।
इस अवसर पर मंदिर के संयोजक प्रवीण गुप्ता ने बताया कि रंगोली बनाने में छह घंटे से भी अधिक का समय लगा। वहीं, हरिद्वार से लाए गए गंगाजल से मध्यरात्रि से रुद्राभिषेक शुरू हो गया था। उनका कहना है कि 51 प्रकार की सामग्रियों से श्री पृथ्वीनाथ का अभिषेेक किया गया। मंदिर के सेवादार संजय गर्ग ने बताया कि प्रसाद वितरित किया गया। उनका कहनाह ै कि मध्य रात्रि से ही भक्तों की भीड़ जुटनी शुरू हो गई और श्रद्धालुओं ने पूजा अर्चना की और व्रत रखे। इस अवसर पर मंदिर में प्रसाद का वितरण किया गया। इस मौके पर दिगंबर दिनेश पुरी, प्रवीन गुप्ता, राजेंद्र आनंद, नवनी गुप्ता, दिलीप सैनी, नरेंद्र ठाकुर, विक्की गोयल, प्रीति गुप्ता, राजकुमार, सचिन गुप्ता, संजय भट्ट, सचिन, कार्तिक गर्ग आदि उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY