संजय हत्याकांड से उठाया पर्दा

0
8

महिला ने दो साथियों के साथ अंजाम दिया था हत्याकांड
एसपी देहात के ऑपरेशन से बेनकाब हुए हत्यारे
रुड़की। भगवानपुर इलाके में एक युवक की हत्या कर उसके शव को रेलवे लाइन पर फैंकने के मामले में एसपी देहात ने हत्यारों को पकडने के लिए गोपनीय मिशन चलाया और मुखबिरों का जाल बिछाकर यह पता लगान की कोशिश की कि इस हत्याकांड को किस ग्रुप ने अंजाम दिया है। एसपी के ऑपरेशन में पन्द्रह दिन के भीतर हत्याकांड से पुलिस ने पर्दा उठाते हुए एक महिला व उसके दो साथियों को जेल की सलाखों के पीछे पहुंचा दिया।
भगवानपुर पुलिस ने 29 दिसंबर को संजय की हत्या कर शव को रेलवे लाइन पर फैंकने के मामले में आज पुलिस को सफलता हाथ लगी है। पुलिस ने दो अभियुक्तों सहित एक महिला को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने इनके पास से हत्या में प्रयुक्त डंडा भी बरामद कर लिया है।
आज भगवानपुर थाने में एसपी देहात मणिकांत मिश्रा ने मामले का खुलासा करते हुए बताया कि 29 दिसंबर को धर्मेन्द्र पुत्र मोलहड़ निवासी तेज्जूपुर ने अपने चचेरे भाई संजय का शव रेलवे लाइन पर मिलने की सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच शुरू की। मामले के जल्द खुलासे को लेकर एसपी देहात मणिकांत मिश्रा के निर्देशन में एसओ भगवानपुर राजीव चौहान समेत पुलिस टीम का गठन किया गया। मुखबिर की सूचना और पुलिस की जांच पड़ताल में अंशुल पुत्र छत्रपाल निवासी बिंदुखडक झबरेड़ा हाल निवासी आजाद नगर रुड़की, जयपाल पुत्र नाथीराम निवासी धौलाकुआं बेहट सहारनपुर और रजनी पत्नी जोद सिंह निवासी तेज्जूपुर भगवानपुर को गिरफ्तार किया गया। एसपी देहात ने बताया कि रजनी और संजय एक दूसरे के संपर्क में थे। मृतक संजय ने रजनी से अंशुल और जगमाल को भी मिलवाया था। अंशुल और जगमाल ने जब रजनी के संपर्क में ज्यादा रहने लगे तो संजय को बुरा लगने लगा। एसपी देहात ने बताया कि अंशुल ने बताया कि संजय ने एक बार अंशुल और रजनी को एक साथ घर पर पकड़ भी लिया था। संजय ने इन दोनों को मना भी किया कि तुम रजनी से कम मिला किया करो। इस बात से नाराज होकर अंशुल और जगमाल ने संजय को रास्ते से हटाने का फैसला किया। इन तीनों ने मिलकर संजय को बुलाया और फावड़े के बिन्टे से उस पर प्रहार करते करते उसे मौत के घाट उतार दिया और उसके शव को दोनों ने मिलकर रेलवे लाइन पर फैंक दिया। पुलिस ने जिस डंडे से संजय की हत्या की गयी थी वह भी बरामद कर लिया है। इन तीनों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस टीम में एसओ भगवानपुर राजीव चौहान, उपनिरीक्षक मनोज ममगईं, अंजना चौहान, प्रदीप रावत, उपनिरीक्षक सीआईयू रविन्द्र कुमार, हेड कांस्टेबल सीआईयू विजय भारती, कांस्टेबल सुधीर चौधरी, विनोद छपराना, बलदेव, सीआईयू से जाकिर, अशोक, महिपाल, प्रदीप और महिला कांस्टेबल दीपिका नेगी शामिल थे।

LEAVE A REPLY