पहाड़ों में सफर हुआ मुश्किल

0
12

अल्मोड़ा। पहाड़ों में दुर्घटनाओं का क्रम कम होने का नाम नहीं ले रहा है। मुख्यालय से थोड़ी दूरी पर चितई जालीधार के पास शिक्षकों से भरी मैक्स दुर्घटनाग्रस्त हो गई है। मैक्स यू0 के0 01टीए 1732 शिक्षिकों को अल्मोड़ा से बाड़ेछीना की ओर ले जा रही थी। मैक्स में 10 लोग सवार थे। जिसमे से तीन लोगों की मौके पर ही मृत्यु हो गई बाकी को अल्मोड़ा के बेस अस्पताल में लाया गया है सभी की हालत गंभीर बताई जा रही है। घटना होने पर लोगों की मदद से सभी को ऊपर लाने का काम किया गया। वाहन चालक खजान राम की आधे रास्ते में मौत हुई।
मृतकों में कान्ताबल्लभ बावड़ी, श्रीमती लक्ष्मी शाही राजकीय जूनियर हाई स्कूल चंद्रकोट और हेम चंद्र पंत ग्रीन वेली पब्लिक स्कूल पेटशाल के थे। पहाड़ों में कहीं न कहीं हॉटमिक्स सड़कें भी इन हादसों को दावत दी रही हैं। रोड हॉटमिक्स होने के कारण चालक रफ्तार बढ़ाता तो है पर मोड़ पर काबू पाना मुश्किल होने के कारण ही अधिकतर वाहन खाई में गिर जाते है। पहाड़ी मार्ग में रोड के किनारे पैराफिट की भी गुणवत्ता इस तरह के हादसों से साफ करती है कि क्या मटीरियल लगा कर इनका काम किया गया है? पहाड़ों पर लगे पैराफिट कभी भी अब कोई दुर्घटना को नहीं रोक पाते हैं क्योंकि इनकी गुणवत्ता कोई देखने को ही तैयार नहीं है और उच्च अधिकारियों द्वारा बिना परिक्षण के ही पैसा निर्गत हो जाता है।इसी का कारण है रोज पहाड़ों की सड़कों में मौत अपना खेल खेल रही है। सड़क एवं पैराफिट की पूर्ण जांच होनी आवश्यक है इन दुर्घटनाओं पर अंकुश कसने को। लेकिन गौरतलब पूर्व में हुई जांचों पर अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई है।

LEAVE A REPLY