एनएच-74 घोटाले के खिलापफ सड़कों पर उतरेगी कांग्रेस

0
230

नैनीताल। हैरानी वाली बात है कि विधानसभा के चुनावों के दौरान देश के पीएम से लेकर भाजपा के नेताओं ने भ्रष्टाचार के खिलाफ बहुत बड़ी बड़ी बाते कही और कांग्रेस पर जमकर आरोपों के बाण चलाये और यहां तक कहां कि अगर प्रदेश को डबल इंजन वाली सरकार मिल गयी तो प्रदेश विकास की नई उचाई छुऐगा, प्रदेश भ्रष्टाचार मुक्त हो जायेगा लेकिन जिस तरह से प्रदेश में एनएच 74 घोटाला हुआ और करोड़ों के वारे नयारे किये गये, उस मामले की सीबीआई जांच क्यों न हो इसको लेकर प्रदेश में सियासी तूफान एक पत्र के बाद खड़ा हो गया है। प्रदेश में सियासी तूफान उठता दिखाई दे रहा है और जिन तलख तेवरों के साथ कांग्रेस मैदान में उतर भाजपा के खिलाफ अपनी आवाज को बुलन्द किया है और आर पार की लड़ाई का ऐलान किया है उसको देख ये तो साफ हो गया कि आने वाले दिनों में प्रदेश की जनता को बहुत कुछ देखने को मिल सकता है। प्रदेश में हुये एनएच 74 के घोटाले को लेकर जहां कुछ समय पूर्व विपक्ष में बैठी भाजपा तत्कालीन कांग्रेस की सरकार पर आरोपों के बाण चला जनता को इस महा घोटाले के बारे में चिल्ला चिल्ला कर बताने में लगी हुई थी तो आखिर अब ऐसा क्या हो गया जो केन्द्रिय मंत्री इस मामले पर पत्र लिख कुछ और बोल रहे है। आज उत्तराखण्ड़ की नेता प्रतिपक्ष की नेता इंदिरा ह्रदयेश ने भाजपा के खिलाफ मोर्चा खोल दिया और आर पार की लड़ाई की हुंकार भर डाली है। एनएच 74 मामले में सीबीआई जांच न कराने के नितिन गडकरी के पत्र पर नेता प्रतिपक्ष ने साधा सरकार पर निशाना, नेता प्रतिपक्ष इंदिरा ह्रदयेश ने कहा एनएच घोटाले में पर्दा डालने की कोशिश भारत सरकार के मंत्री कर रहे है, इस घोटाले में कुछ बड़े लोगो को बचाने के लिए ये पत्र लिखा है, नितिन गडकरी 500 सौ करोड़ के घोटाले को ठंडे बस्ते में डालना चाहते है, कांग्रेस एनएच घोटाले में सदन से लेकर सड़क तक कार्यकर्ताओ के साथ करेगी आंदोलन, वो कौन लोग है जिन्हें सरकार एनएच घोटाले में बचाना चाहती है, इन्दिरा ह्रदयेश ने कहा कि मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत को स्वयं दिल्ली जाकर सीबीआई जांच की करनी चाहिए मांग। इंदिरा ह्रदयेश ने कहा कि नितिन गडकरी ने कहा कि जांच कराने से अधिकारियों का मनोबल गिरेगा। 500 करोड़ के घोटाले पर यदि पर्दा डाला गया तो कॉंग्रेस की सभी इकाइयां सड़कों पर आंदोलन करेगी, भारत सरकार भ्रष्ट अधिकारियों को बचा रही है।

LEAVE A REPLY