राफ्टिंग के रोमांच से युवाओ की जिंदगियो पर मंडरा रहा ‘खतरा’

0
236

ऋषिकेश अमित सूरी-राफ्टिंग का रोमांच युवाओ की जिंदगियों पर खतरे के बादल की तरह मंडरा रहा है।राफ्टिंग के दौरान युवा पीढी लगातार राफ्ट से जम्प कर हादसो को दस्तक देने मे लगी हुई है।राफ्टिंग गाईडो द्वारा इस और ध्यान न दिया जाना कभी भी किसी बड़ी दुघर्टना को जन्म दे सकता है।
विगत् वर्षो मे राफ्टिंग के दौरान हुए हादसों से प्रशासन कोई सबक लेने को तैयार नही है।इस मामले मे सारी उत्तराखण्ड की नयी नवली भाजपा सरकार का ढीला रवय्या राफ्टिक कम्पनियो पर नकैल नही कस पा रहा है।
सहासिक खेल राफ्टिगं के लिए समूचे भारत वर्ष मे अपनी मजबूत जगह बना चुके ऋषिकेश से सटे शिवपुरी क्षेत्र मे पिछले कुछ वर्षो मे गंगा की लहरों के बीच राफ्टिंग की अटखेलियां अनेको युवाओ पर कुछ इस कदर भारी पड़ी हैं कि इस शोेक के चलते हादसे के दौरान उन्हे अपनी जान गंवानी पड़ी है।कई हुनरमंद युवा देश के विभिन्न प्रातों से गंगा की लहरों के रोंमाच का आंनद लेने यहाँ आये मगर राफ्ट पलटने से उन्हे अकाल मोत का ग्रास बनना पड़ा।इन हादसों के बाद मचे हो हल्ले मे कई बार हादसे का शिकार हुए बच्चों के परिजनो ने सुरक्षा को लेकर हगांमा भी मचाया लेकिन पर्यटन व्यवसाय के जरिए अपने आय के स्त्रोत तराशने मे जुटी पूर्ववर्ती हरदा सरकार इस मामले मे अखिंया मूदें रही जिसकी वजह से सुरक्षा मे खिलवाड़ की वजह से हुए अनेको हादसों मे कई परिवारों के घर के चिराग बुझ गये।प्रदेश की सियासत मे भाजपा का कमल पूरी तरह से खिलने के बाद कयास लगाये जा रहे थे कि भाजपा सरकार राफ्टिंग के दौरान होने वाले हादसों को थामने के लिए कोई नया और सख्त कानून लायेगी लेकिन इस मामले मे अब तक सरकार द्वारा कोई पहल नही की गई जोकि साफ दर्शाता है कि सरकार की नजरे उत्तराखण्ड मे पर्यटन को बड़ावा देकर मलाई काटने मे ही लगी हुई हैं।उल्लेखनीय है कि पिछले चंद वर्षो मे अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त धार्मिक एवं पर्यटन नगरी से सटा शिवपूरी-कोड़ियाला क्षेत्र रीवर राफ्टिंग का हब बनकर उभरा है।राफ्टिंग के प्रति यूवाओ मे क्रेज का आलम यह है कि वीकेडं पर पर्यटको की उमड़ती भीड़ के चलते सड़को पर वाहनों के जाम के साथ गंगा मे भी रंग बिरंगी राफ्टो के जाम जैसी स्थिति उत्पन हो जाती है।जानकारो का मानना है कि नयी भाजपा सरकार को राफ्टिंग मे होने वाले हादसों को थामने के लिए सुरक्षा उपायों की गंभीरता के साथ समीक्षा करनी होगी तभी इन हादसो पर अंकूश संभव हो सकेगा।

LEAVE A REPLY