राजकीय चिकित्सालय मे अल्ट्रासाऊड व्यवस्था मे झोल को लेकर महिलाओ का गुस्सा अस्पताल प्रशासन पर फूटा

0
225

ऋषिकेश. चारधाम यात्रा की तैयारियो को लेकर उत्तराखण्ड की त्रिवेन्द्र रावत सरकार की पोल खुलनी शुरु हो गई है।ऋषिकेश के राजकीय चिकित्सालय मे आज लचर स्वास्थय सेवाओ को लेकर लोगों के सब्र का बांध टूट गया।गुस्साए लोगों ने चारधाम यात्रा के मुख्य द्वार ऋषिकेश के राजकीय चिकत्सालय के मुख्य गेट पर तालाबंदी के बाद सी एम का घेराव कर उन्हे जमकर खरी खोटी सुनाई।अस्पताल मे मरीजो और उनके तीमारदारो के उग्र होते गुस्से को देख चिकित्सकों एवं स्वास्थय कर्मियो मे हड़कम्प मच गया गया।मामले की सूचना मिलते ही कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंच गई।इस दौरान बड़ी संख्या मे महिलाओ के साथ अन्य प्रदर्शनकारी चिकित्सालय के सी एम एस डा गैरोला के कक्ष पर एकत्र हो गये थे और उनके कक्ष का घैराव कर लचर स्वास्थय सेवाओ को लेकर उनको जमकर खरी खोटी सुनाई।महिलाओ का आरोप था कि अल्ट्रासाऊड के टेस्ट के लिए फिछले बीस दिनो उन्हे राजकीय चिकित्सालय मे धक्के खाने पड़ रहे हैं।रोजाना टेस्ट को लेकर उन्हे संतोष जनक जवाब के बजाए आज कल कहकर टरकाया जा था।बर्दाश्त की तमाम हदें पार करने के बाद उन्हे यह कड़ा कदम उठाना पड़ा है।प्रदर्शनकारियों को शांत कराते हुए मुख्य चिकित्सा अधिक्षक डा गैरोला ने आश्वासन दिया कि जल्द ही अल्ट्रासाऊड सहित तमाम चिकित्सीय व्यवस्थाओ मे सुधार करा दिया जाएगा।उनके आश्वासन और पुलिस के हस्तक्षेप के बाद प्रर्दशनकारियो का गुस्सा शांत हुआ।उल्लेखनीय है कि विश्व प्रसिद्व चार धाम यात्रा के मुख्य द्वार ऋषिकेश का राजकीय चिकित्सालय पिछले कई सालों से बीमार पड़ा हुआ है।जीवन रक्षक औषधियों के साथ यहाँ चिकित्सको एवं चिकित्साकर्मियो का ट्टोटा लगातार बना हुआ है जिसको लेकर शहर के तमाम राजनैतिक दलो के साथ विभिन्न सामाजिक संगठन लगातार आवाज बुलंद करते रहे हैं।इन सबके बीच यात्रा के शुभारम्भ से महज दो दिन पूर्व चिकित्सालय की बीमार दशा और अल्ट्रासाऊड व्यवस्था को लेकर जिस प्रकार लोगों का गुस्सा अस्पताल प्रशासन पर फूटा है उसने  प्रदेश सरकार की तैयारियों पर भी तगड़ी चोट कर दी है।अब देखना यह भी रोचक होगा कि परसो वृहस्पतिवार को यात्रा के शुभारम्भ के लिए यहाँ आ रहे मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिह रावत ऋषिकेश के बीमार चिकित्सालय की दशा और दिशा सुधारने के लिए कोई कढा कदम उठाते हैं या नही।

LEAVE A REPLY