5 दिन में ही हवाला कारोबार की टूटी कमर, 80 फीसद की गिरावट

0
149
people-queue-line-atm
एटीएम और बैंक की ब्रांचों के बाहर लंबी-लंबी लाइनें लग रही हैं

नई दिल्ली- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कालेधन पर रोक लगाने की कर्रवाई के बाद हवाला कारोबार की कमर टूट गई है। कालेधन पर रोक लगाने के पीएम मोदी ने जो चाबुक चलाया है उससे हवाला कारोबार में 80 फीसद गिरावट दर्ज की गई है। ये जानकारी भारत की खुफिया एजेंसी ने दी है।

आईबी की अगर मानें तो खाड़ी देशों और कश्मीर घाटी के बीच एक भी ट्रांजेक्शन नहीं हुई है। आईबी के मुताबिक फिलहाल हवाला कारोबारी अंडरग्राउंड हो गए हैं। 8 नंवंबर को रात 8 बजे पीएम मोदी के बोल्ड फैसले के बाद दिल्ली, जयपुर, अहमदाबाद और मुंबई में हवाला कारोबारी छिप गए हैं।

शुक्रवार शाम को खुफिया विभाग ने गृह मंत्रालय को जो रिपोर्ट सौंपी गई उसमें कहा गया है कि पिछले तीन दिनों से हवाला के जरिए खाड़ी देशों और कश्मीर घाटी के बीच कोई लेन देन नहीं किया गया है। तो वहीं मंत्रालय ने आईबी और नेशनल इंवेस्टिगेटिव एजेंसी को नोट बंदी के असर की निगरानी की जिम्मेदारी दी है।

घबरा गए हैं हवाला कारोबारी

IB की रिपोर्ट में कहा गया है कि कश्मीर घाटी में सिक्युरिटी फोर्सेज की कार्रवाई के चलते हवाला कारोबारी डर रहे हैं। हवाला ऑपरेटर्स ब्लैक मनी लेने में घबरा रहे हैं, वो ऐसा खतरा मोल लेने को तैयार नहीं हैं। गौरतलब है कि इनकम टैक्स डिपार्टमेंट के सर्वे में भी इसी तरह के फैक्ट्स सामने आए हैं।

रुक सी गई है मनी लॉन्ड्रिंग

रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि हवाला आॅपरेटर्स के अंडरग्राउंड होने के कारण मनी लॉन्ड्रिंग रुक सी गई है।वहीं हिजबुल मुजाहिदीन कमांडर बुरहान वानी के मारे जाने के बाद आईबी और एनआईए कश्मीर घाटी में हवाला फंडिग की जांच कर रहे हैं। आईबी की रिपोर्ट के मुताबिक कश्मीर घटी में सुरक्षा बलों की कार्रवाई के कारण हवाला कारोबारियों में डर है। वो कालेधन से घबरा रहे हैं और कोई खतरा नहीं उठाना चाहते।

LEAVE A REPLY